Ayodhya Ram Mandir भूमि पूजन। PM मोदी ने अयोध्या में रखी राम मंदिर की आधारशिला

आज राम मंदिर का जन्म भुमि पूजन। पीएम मोदी ने रखी राम लला की आधारशिला।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में आज आयोजित राम मंदिर के भूमि पूजन की आधारशिला रख दिया है। पीएम ने पूरे विधि विधान से मंदिर का शिलान्यास किया। इस दौरान पीएम मोदी के साथ यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी आदित्यनाथ और आरएसएस प्रमुुख मोहन भागवत सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे। 500 साल से जिन लम्हों का इंतजार था, वो लम्हा आज अवधनगरी में फलीभूत हो गया।  करोड़ों राम भक्तों का सपना आज साकार हो गया है।  बेहद शुभ मुहूर्त में राम मंदिर का भूमि पूजन संपन्न हुआ।

भूमिपूजन उस जगह पर किया गया, जहां रामलला विराजमान थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नौ शिलाओं को रखकर राम जन्मभूमि मंदिर की आधारशिला रखी। इस ऐतिहासिक पल के गवाह 175 साधु-संत बने। कोरोना के कारण सोशल डिस्टेंसिंग का पुरा ख्याल रखा गया था।
यह भी पढ़ें:-

रक्षाबंधन पर सुशांत सिंह की बहनों ने भावनात्मक पोस्ट और फोटो शेयर किया। 


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज करीब 11 बजे हेलिकॉप्टर के जरिए अयोध्या के साकेत कॉलेज में पहुंचे। पीएम मोदी राम मंदिर पूजन के लिए 29 साल बाद अयोध्या पहुंचे। इसके बाद नरेंद्र जी का काफिला सीधे हनुमानगढ़ी में पहुंचा। पीएम नरेंद्र मोदी ने भगवान हनुमान का दर्शन किया और आशीर्वाद लिया। इस दौरान पीएम मोदी को पगड़ी और मुकुट पहनाया गया। राम मंदिर का शिलान्यास तय समयानुसार 12.44 मिनट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया। 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम जन्मभूमि मंदिर की नींव में नौ शिलाएं रखीं। इन्हें 1989 में दुनिया भर के भगवान राम के भक्तों ने भेजा था। जो शिला है वह कूर्म शिला है।‌ इस शिला के ठीक ऊपर राम लला विराजमान होंगे। भूमि पूजन का शुभ मुहूर्त 12 बजकर 44 मिनट पर था, लेकिन उससे पहले पूरे विधि विधान से इस महाआयोजन की शुरूआत हुई। 12 बजकर 7 मिनट पर पीएम मोदी भूमि पूजन के लिए पहुंचे।

शिलान्यास के बाद देशवासियों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पांच शताब्दियों बाद राम मंदिर का सपना पूरा हुआ है। 135 करोड़ भारतवासियों को और पूरे विश्व के लोगों व नागरिकों की भावनाओं का मूर्तरूप देने का अवसर जिस महानुभाव के कारण प्राप्त हुआ वह है भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ